‘बॉयकॉट ट्रेंड’ पर तीखे शब्दों में Arjun Kapoor ने जाहिर किया गुस्सा, कहा – ‘अब बहुत ज्यादा हो रहा हैं….

हिंदी सिनेमा पर काफी समय से मुसीबतों की बादल छाए हुए हैं। कोरोना काल के समय से बॉलीवुड ही फिल्मों की कमाई बिल्कुल ठप्प हैं। हालांकि देश में कोरोना से राहत मिलते के बाद लग रहा था कि बॉलीवुड फिल्मों की गाड़ी पटरी पर आ रही हैं। लेकिन इसके बाद सोशल मीडिया पर बॉलीवुड फिल्मों के बहिष्कार का चलन चल पड़। सोशल मीडिया के जरिये लोग बॉलीवुड फिल्मों के बहिष्कार की मांग उठाने लगे। फिल्म की रिलीज से पहले ही सोशल मीडिया यूजर्स उन अभिनेताओं की फिल्मों के बहिष्कार की मांग उठा रहे हैं जो हिन्दुओं के खिलाफ बयानबाजी करते थे।

एक के बाद एक फिल्मों की बहिष्कार की उठती मांग के साथ लग रहा हैं कि अब हर बॉलीवुड फिल्म का हाल ऐसा ही होगा। बहरहाल रक्षा बंधन और लाल सिंह चड्डा फिल्मों को लेकर सोशल मीडिया पर बॉयकॉट का ट्रेंड चल रहा हैं। ऐसे में अब अर्जुन कपूर (Arjun Kapoor) ने बॉयकॉट के ट्रेंड पर अपना गुस्सा जाहिर किया हैं।

Arjun Kapoor ने ‘बॉयकॉट ट्रेंड’ पर जताया गुस्सा

दरअसल अर्जुन कपूर (Arjun Kapoor) ने ‘बॉयकॉट ट्रेंड’ पर अपना गुस्सा जाहिर करते हुए एक इंटरव्यू में कहा हैं कि

 “मुझे लगता है कि हमने बॉयकॉट पर चुप रहकर गलती की और यह हमारी शालीनता थी लेकिन लोगों ने इसका फायदा उठाना शुरू कर दिया है। मुझे लगता है कि हमने यह सोचकर गलती की हैं कि ‘हमारा काम खुद बोलेगा’। आप जानते हैं कि आपको हमेशा अपना हाथ गंदा करने की जरूरत नहीं है, लेकिन मुझे लगता हैं कि हमने इसे बहुत सहन किया और अब लोगों ने इसे एक आदत बना लिया हैं।”

अर्जुन ने इंडस्ट्री के लोगों को एक जुट होने के लिए कहा 

अर्जुन कपूर (Arjun Kapoor) ने अपने इंटरव्यू में आगे कहा कि,

“अब इंडस्ट्री के लोगों को एक साथ आने और इसके बारे में खुलकर बात करने की जरूरत है। क्योंकि लोग उनके बारे में क्या लिखते हैं, वो सच्चाई से बहुत दूर होता है। जब हम ऐसी फिल्में करते हैं, जो बॉक्स ऑफिस पर अच्छा परफॉर्म करती हैं, तो उस समय लोग उन्हें हमारे नाम की वजह से नहीं बल्कि फिल्म की वजह से पसंद करते हैं। हालांकि, यह अब बहुत ज्यादा हो रहा है और यह गलत है।”

अर्जुन ने लोगों से फिल्म देखने के लिए किया अनुरोध

अपने दिए इंटरव्यू में अर्जुन कपूर (Arjun Kapoor) ने बॉयकॉट पर खुलकर बात करते हुए आगे कहा कि,

“लोगों को शायद ये पता भी नहीं होता है कि आखिर बायकॉट हो क्यों रहा हैं, लेकिन बातें शुरू हो जाती हैं तो लोग उसमें ही चल पड़ते हैं। अंधों की तरह चलने से बेहतर हैं कि फिल्म देखें, अपने विचार रखें और तब आगे की चीजें तय करें।” 

About the author

hinditech

Leave a Comment