5 छक्के, 22 गेंद और 231 की स्ट्राइक, टीम की जीत में अकेला योद्धा बना ये कप्तान

लक्ष्य बड़ा था पर वो अकेला विकेट पर खड़ा था. जब उस कप्तान के पांव विकेट पर पड़े थे, तो हाल कुछ अच्छे नहीं थे. ऊपर के बल्लेबाज डगआउट जा चुके थे. जो थे वो भी संभलने के बजाए फिसलते जा रहे थे. लेकिन इस कप्तान ने टीम की जीत को हाथ से नहीं फिसलने दिया. उसने तो जैसे ठान रखी थी आज आर या पार. तभी तो वो पारी खेल गया जो उसके T20 करियर की सबसे बड़ी थी. इतने ही छक्के अकेले एक मैच में जड़ गया, जितने इससे पहले खेले मैचों में जड़े थे. हम बात कर रहे थे महाराजा T20 ट्रॉफी 2022 में खेल रहे अभिमन्यु मिथुन की.

अभिमन्यु मिथुन कर्नाटक की महाराजा T20 ट्रॉफी में हुगली टाइगर्स के कप्तान हैं. और टीम के सामने जब रनों का पहाड़ आया तो उस पर चढ़ाई करने के लिए अकेले ही हल्ला बोल दिया. विकेट से वो नाबाद लौटे, टीम को जीत दिलाकर लौटे.

137 रन के लक्ष्य के आगे खराब शुरुआत

बेंगलुरु ब्लास्टर्स के खिलाफ मुकाबले में हुगली टाइगर्स को VJD नियम के तहत 16 ओवर में 137 रन बनाने का लक्ष्य मिला. इस लक्ष्य का पीछा करते हुए हुगली टाइगर्स की शुरुआत खराब रही. उन्होंने टॉप के 3 विकेट सिर्फ 18 रन पर खो दिए. इसके बाद 50 रन के अंदर उन्हें चौथा झटका लग गया. 87 रन तक पहुंचते पहुंचते हुगली टाइगर्स के आधे खिलाड़ी डगआउट में थे और टीम संकट में. ऐसे में कमान कप्तान अभिमन्यु मिथुन ने संभाली.

अभिमन्यु मिथुन का अर्धशतक

मिथुन ने 22 गेंदों का सामना करते हुए 231 से ज्यादा की स्ट्राइक रेट के साथ नाबाद 51 रन बनाए और टीम को मैच जिताया. उनकी इस पारी में 5 छक्के और 2 चौके शामिल रहे. ये T20 क्रिकेट में उनके बल्ले से निकला पहला अर्धशतक है.

हुबली टाइगर्स ने 4 विकेट से जीता मुकाबला

अभिमन्यु मिथुन के अर्धशतक के दम पर हुबली टाइगर्स ने बेंगलुरु ब्लास्टर्स के खिलाफ मुकाबला 4 विकेट से जीता. उन्होंने 16 ओवर में बनाने को मिले 137 रन के लक्ष्य को 1 गेंद पहले ही हासिल कर लिया.इससे पहले बेंगलुरु ब्लास्टर्स ने पहले खेलते हुए 16 ओवर में 5 विकेट पर 119 रन बनाए थे. उनकी ओर से भी सबसे ज्यादा 43 रन उनके कप्तान मयंक अग्रवाल ने बनाए थे.

About the author

suuny

Leave a Comment