5 साल का रिकॉर्ड: भारत के लिए रोहित जरूरी, उनके बिना टीम 53% मैच नहीं जीत सकी, कोहली के बिना 73% मैच में गाड़ा झंडा

विराट कोहली (Virat Kohli) इन दिनों खराब प्रदर्शन और रेस्ट दिए जाने के कारण पूर्व दिग्गजों के निशाने पर हैं. इंग्लैंड के खिलाफ दूसरे वनडे में (IND vs ENG) एक बार फिर वे बड़ी पारी खेलने में नाकाम रहे. वे सिर्फ 16 रन बना सके. भारतीय टीम मैच में 146 रन बनाकर सिमट गई और इंग्लैंड ने यह मुकाबला 100 रन से जीतकर सीरीज 1-1 से बराबर भी कर ली है. कोहली को वेस्टइंडीज दौरे के लिए वनडे और टी20 टीम में नहीं चुना गया है. उन्हें आराम दिया गया है. पिछले दिनों पूर्व दिग्गज कपिल देव ने कहा था कि अब समय आ गया है कि विराट की जगह किसी युवा को मौका दिया जाए. वहीं सुनील गावस्कर ने रेस्ट दिए जाने को लेकर कहा था कि खिलाड़ी आईपीएल में ऐसा नहीं करते. कुल मिलाकर पूर्व कप्तान विराट प्रदर्शन नहीं कर पाने के कारण चारों ओर से आलोचनाओं से घिरे नजर आ रहे हैं. हालांकि कप्तान रोहित शर्मा, बीसीसीआई अध्यक्ष सौरव गांगुली सहित कई दिग्गज अभी भी उनके साथ खड़े दिखाई दे रहे हैं. पिछले 5 साल के रिकॉर्ड को देखें, तो कोहली के टीम में नहीं रहने पर भारत अधिक मुकाबले जीत रहा है. वहीं रोहित शर्मा जब भी टीम से बाहर रहे, अधिक मैच में हार मिली.

टीम इंडिया के पिछले 5 साल यानी 2017 से उसके प्रदर्शन को देखें, तो उसने तीनों फॉर्मेट को मिलाकर 247 मुकाबले खेले. 158 में उसे जीत मिली, जबकि 73 में हार. यानी टीम ने 64 फीसदी मुकाबले जीते. इस दौरान टीम ने 56 में से 32 टेस्ट में जीत हासिल की, 17 में हार मिली. वनडे की बात करें, तो भारतीय टीम ने 100 में से 65 मुकाबले जीते, 31 में शिकस्त मिली. वहीं टी20 के 91 में से 61 मुकाबले जीते. 25 में उसे हार भी मिली.

कोहली ने 61 तो रोहित ने 72 फीसदी मैच जीते

पिछले 5 साल में विराट कोहली तीनों फॉर्मेट में भारत की ओर सबसे अधिक मैच खेलने वाले खिलाड़ी रहे. इस दौरान वे 188 मैच में उतरे. टीम को 115 मैच में जीत मिली. यानी टीम ने 61 फीसदी मुकाबले जीते. 61 मैच में हार मिली. अब अगर रोहित शर्मा की बात करें, तो उन्होंने पिछले 5 साल में 169 मैच खेले. 121 मैच भारतीय टीम जीतने में सफल रही. यानी लगभग 72 फीसदी. इस रिजल्ट से साफ है कि रोहित का रहना टीम के लिए अहम है.

कोहली नहीं तो जीत पक्की

पिछले 5 साल में कोहली टीम इंडिया की ओर से 59 मैच में नहीं उतरे. इस दौरान टीम ने 43 मैच जीते. यानी लगभग 73 फीसदी. इस दौरान टीम को सिर्फ 12 मैच में हार मिली. यानी पूर्व कप्तान विराट के प्लेइंग-11 में नहीं रहने पर टीम अधिक मैच जीत रही है. वहीं रोहित ने पिछले 5 साल 78 मैच में नहीं उतरे. इस दौरान टीम सिर्फ 37 मैच ही जीत सकी. यानी टीम सिर्फ 47 फीसदी मैच ही जीत सकी. 53 फीसदी रिजल्ट उसके पक्ष में नहीं आया.

18 बार शून्य पर हुए आउट

पिछले 5 साल के बल्लेबाजी के रिकॉर्ड को देखें, विराट कोहली तीनों फॉर्मेट में 217 पारियों में बल्लेबाजी करने उतरे. 18 बार तो वे खाता नहीं खोल सके हैं. 29 शतक और 54 अर्धशतक लगाया है. 10,273 रन बनाए हैं. वहीं रोहित शर्मा इस दौरान 184 पारियों में बल्लेबाजी करने उतरे. 8 बार शून्य पर आउट हुए. 28 शतक और 38 अर्धशतक लगाया. 8196 रन बनाए. इस दौरान विराट से तीनों फॉर्मेट की कप्तानी भी ली जा चुकी है. रोहित के पास इस समय तीनों टीमों की कमान है. इस साल अक्टूबर-नवंबर में ऑस्ट्रेलिया में टी20 वर्ल्ड कप होना है. उससे पहले विराट का फॉर्म में आना जरूरी है.

About the author

suuny

Leave a Comment