10 गेंदों में कूटे 54 रन, ठोका सबसे तेज पचासा, Maxwell भी इस बैटर को देखते रह गए

अगर किसी मैच में फाफ डुप्लेसी और ग्लेन मैक्सवेल जैसे धाकड़ बल्लेबाज खेल रहे हों और उन्होंने दमदार पारियां भी खेली हों, तो कम ही होता है कि चर्चा किसी और की हो. कभी-कभार ही ऐसे मौके आते हैं, कि अंतरराष्ट्रीय क्रिकेट के इन दो सूरमाओं की बेहतरीन बैटिंग के बावजूद कोई घरेलू क्रिकेटर महफिल लूट ले. ऐसा करने के लिए बेहद खास बल्लेबाजी की जरूरत होती है और 15 गेंदों में अर्धशतक को इस श्रेणी में रखा जा सकता है. यही कारण है कि इंग्लैंड के एडम रॉसिंग्टन के चर्चे हो रहे हैं.

इंग्लैंड में हो रहे द हंड्रेड टूर्नामेंट के दूसरे सीजन में कुछ धमाकेदार प्रदर्शन अभी तक देखने को मिले हैं. रविवार 14 अगस्त को आतिशबाजी का ये दौर अलग स्तर पर पहुंच गया. लीड्स के हेडिंग्ले मैदान में नॉर्दर्न सुपरचार्जर्स और लंदन स्पिरिट की पुरुष टीमों के बीच मुकाबला खेला गया. इस मैच में पहले फाफ डुप्लेसी ने सुपरचार्जर्स की ओर से 35 गेंदों में ताबड़तोड़ 56 रन ठोके, जबकि एडम होसे ने भी 14 गेंदों में 30 रन उड़ाए. इस तरह सुपरचार्चर्स ने 100 गेंदों में 143 रन बनाए.

The Hundred का सबसे तेज अर्धशतक

लंदन की ओर से ग्लेन मैक्सवेल, कप्तान ऑयन मॉर्गन जैसे धाकड़ बल्लेबाजों पर फैंस की नजर थी. मैक्सवेल ने धमाकेदार बैटिंग की भी, लेकिन उससे पहले ही ओपनर एडम रॉसिंग्टन ने तूफान खड़ा कर दिया था. 29 साल के इस इंग्लिश बल्लेबाज ने डेविड विली, आदिल रशीद और ड्वेन ब्रावो जैसे अनुभवी गेंदबाजों की जमकर धुनाई की और सिर्फ 15 गेंदों में अर्धशतक पूरा कर दिया. इस तरह रॉसिंग्टन ने द हंड्रेड के इतिहास में सबसे तेज फिफ्टी का रिकॉर्ड बना लिया.

आसानी से जीती लंदन

अपनी इस पारी के दम पर रॉसिंग्टन ने टीम की आसान जीत तय कर दी थी, जिसे अंजाम तक ग्लेन मैक्सवेल ने पहुंचाया. तीसरे नंबर पर बैटिंग के लिए आए मैक्सवेल ने काफी देर तक रॉसिंग्टन की आतिशबाजी देखी और फिर खुद भी धमाल मचाया. दिग्गज ऑस्ट्रेलियाई बल्लेबाज ने खुलद 25 गेंदों में 43 रन बनाए और टीम को 82 गेंदों में ही जीत दिला दी, लेकिन दिग्गजों की मौजूदगी में महफिल रॉसिंग्टन ने ही लूटी.

About the author

suuny

Leave a Comment