666666 प्रीति जिंटा का यह बल्लेबाज जमकर मचा रह है तबाही, 61 गेंदों में ठोके 112 रन, एशिया कप में चुनकर भारत ने की गलती

कर्नाटक में खेली जा रही महाराजा ट्रॉफी लीग अपने अंत की ओर पहुंच रही है. लीग का पहला क्वालिफायर मैच 23 अगस्त, मंगलवार को खेला गया था. यह मैच बेंगलुरु ब्लास्टर्स और गुलबर्ग मिस्टिक के बीच खेला गया था. इस मैच में बेंगलुरु ब्लास्टर्स ने 44 रनों से जीत हासिल की.

बेंगलूरु ब्लास्टर्स के कप्तान मंयक अग्रवाल (MAYANK AGGARWAL) इस मैच में काफी आक्रमक दिखाई दिए. उन्होंने इस मैच शानदार पारी खेलते हुए टीम को जीत दिलाई और फाइनल तक का सफर तय करवाया.

मंयक ने खेली ताबड़तोड़ पारी

पहले बल्लेबाज़ी करने उतरी बेंगलुरु ब्लास्टर्स की शानदार बल्लेबाज़ी देखने को मिली. बेंगलुरु की तरफ से पारी की शुरुआत करने आए कप्तान मयंक अग्रवाल (MAYANK AGGARWAL) ने 61 गेंदों में 112 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली. मंयक अग्रवाल की इस पारी में 9 चौके और 6 छक्के शामिल रहे. वही, उनका स्टाइक रेट 183 से ज़्यादा का रहा बेंगलुरु ब्लास्टर्स की तरफ से मयंक अग्रवाल (MAYANK AGGARWAL) के साथ बल्लेबाज़ी करने आए चेतन ने भी टीम के लिए शानदार पारी खेली.

उन्होंने इस मैच में 48 गेंदों में 5 चौके और 5 छक्कों की मदद से 80 रन बनाए. इस पारी के दौरान उनका स्ट्राइक रेट 166 से ज़्यादा का रहा. दोनों ही बल्लेबाज़ों ने मिलकर पहले विकेट के लिए एक 162 रनों की शानदार साझेदारी की और टीम को एक बड़े स्कोर तक पहुंचाने में मदद की.

बेंगलुरु ब्लास्टर्स ने फाइनल में बनाई जगह

गौरतलब है, पहले बल्लेबाज़ी करते हुए बेंगलुरु ब्लास्टर्स ने 20 ओवरों में 3 विकेट के नुकसान पर 227 रन बनाए. स्कोर का पीछा करने उतरी गुलबर्ग मिस्टिक 18.2 ओवरों में ही 183 रनों पर ऑलआउट होकर सिमट गई.

गुलबर्ग की तरफ से रोहन पाटिल ने 49 गेंदों पर 10 चौके और 7 छक्कों की मदद से 108 रनों की ताबड़तोड़ पारी खेली, लेकिन उनकी पारी टीम को जीत नहीं पहुंचा सकी.

 

About the author

suuny

Leave a Comment