आमिर खान की ‘लाल सिंह चड्ढा’ पर शांति भंग करने का आरोप, बंगाल में फिल्म को बैन करने की मांग

आमिर खान की फिल्म ‘लाल सिंह चड्ढा’ रिलीज के बाद से ही विवादों में रही है. ये फिल्म कैंसिल कल्चर का शिकार लोगों में से एक है क्योंकि रिलीज होने पहले ही लोगों ने इसका बहिष्कार करना शुरू कर दिया था. बायकॉट की वजह से फिल्म के बॉक्स ऑफिस कलेक्शन पर भी इसका बहुत हद तक असर पड़ा है. अब इस बीच एक और खबर सामने आई है. दरअसल, अब फिल्म लाल सिंह चड्ढा के खिलाफ कोलकाता हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है. इस याचिका के तहत ये शांति भंग का हवाला देते हुए बंगाल में फिल्म पर पूरी तरह से प्रतिबंध लगाने की मांग करता है.

आमिर खान की फिल्म लाल सिंह चड्ढा के खिलाफ अब कोलकाता हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है. अब इस मामले पर 23 अगस्त को मुख्य न्यायाधीश प्रकाश श्रीवास्तव की अदालत में सुनवाई की जाएगी. आमिर खान की फिल्म लाल सिंह चड्ढा के खिलाफ अब कोलकाता हाई कोर्ट में एक जनहित याचिका दायर की गई है. अब इस मामले पर 23 अगस्त को मुख्य न्यायाधीश प्रकाश श्रीवास्तव की अदालत में सुनवाई की जाएगी. बता दें कि याचिका में बंगाल में फिल्म पर बैन लगाने की मांग की गई है. साथ ही, फिल्म को लेकर ये मांग भी की गई है कि प्रतिबंध न लगने पर हर सिनेमाघर के बाहर एक पुलिस तैनात की जानी चाहिए.

वहीं, फिल्म पर बैन की मांग का शिकार हो रही फिल्म लाल सिंह चड्ढा पर आरोप है कि जो दिखाया गया है वो बंगाल में शांति और व्यवस्था को बिगाड़ सकता है. फिल्म के खिलाफ एडवोकेट नाजिया इलाही खान ने जनहित याचिका दायर की है. उनके मुताबिक फिल्म में आर्मी को ठीक से रिप्रेजेंट नहीं किया गया है.

यूपी में भी है बैन की मांग

इसके पहले लाल आमिर की फिल्म के खलाफ हिंदू संगठन, सनातन रक्षक सेना के कुछ सदस्यों ने उत्तर प्रदेश में विरोध प्रदर्शन किया था. उनका कहना था कि वो लाल सिंह चड्ढा पर प्रतिबंध लगाने के लिए अड़े हैं. इस विरोध के पीछे का कारण आमिर खान ही थे, जब उनपर हिंदू देवताओं का मजाक उड़ाने का आरोप लगा था. संगठन के सदस्यों ने अद्वैत चंदन निर्देशित फिल्म लाल सिंह चड्ढा के खिलाफ नारेबाजी की और अभिनेता आमिर खान पर उनकी धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने का आरोप लगाया.

About the author

hinditech

Leave a Comment