No Ball पर चमकी बुमराह की किस्मत, एक्ट्रा गेंद पर मिले टीम इंडिया को दो बड़े विकेट

भारत और इंग्लैंड के बीच एजबेस्टन, बर्मिंघम में रिशेड्यूल पांचवां टेस्ट मैच खेला जा रहा है। जहां टीम इंडिया पहली पारी में 416 रन बनाकर ऑल-आउट हुई। जवाब में मेजबान टीम की शुरुआत भी अच्छी नहीं रही और इंग्लैंड ने केवल 44 रन के अंदर 3 विकेट गंवा दिए। ये तीनों विकेट भारतीय कप्तान जसप्रीत बुमराह (Jasprit Bumrah) के खाते में आए। दिलचस्प बात तो ये रही कि तीन में दो विकेट बुमराह को नो बॉल के चलते मिले।

कैसे नो बॉल ने पल्टी किस्मत

दरअसल, इंग्लैंड की पारी के तीसरे ओवर की आखिरी गेंद पर जसप्रीत बुमराह ने ओपनर एलेक्स लीस को क्लीन बोल्ड किया। इससे पहले भारतीय कप्तान ने आखिरी गेंद नो बॉल डाली थी, जिस पर जैक क्राउली ने सिंगल लेकर एलेक्स लीस को स्ट्राइक थमा दी। नो बॉल होने के चलते बुमराह फिर से अंतिम डालने आए। उन्होंने राउंड द विकेट से 139 kmph की रफ्तार से गेंद फेंकी और लीस क्लीन बोल्ड हो गए। जसप्रीत बुमराह ने चौथे स्टंप पर गेंद डाली थी, जो टप्पा पड़ने के कोण के सहारे अंदर आई और भारत को पहली सफलता दे गई। एलेक्स लीस 6 रन बनाकर पवेलियन लौटे।

दूसरी बार पोप बने शिकार

इसके बाद 11वें ओवर में बुमराह ने ओली पोप का शिकार किया। इस विकेट में भी नो बॉल का बड़ा रोल रहा। दरअसल, पोप का विकेट लेने से पहले बुमराह ने आखिरी गेंद नो बॉल डाली थी। बुमराह को पता भी नहीं था कि उन्होंने नो बॉल डाली है। अंपायर के बताने पर वो एक बार फिर से नो बॉल के कारण एक्ट्रा गेंद करने के लिए आए और पोप का विकेट लेने में कामयाब हुए। अनुभवी तेज गेंदबाज ने ऑफ स्टंप के बाहर फुल लेंथ गेंद फेंकी थी, जो टप्पा पड़कर थोड़ा और बाहर निकली। ओली पोप गेंद को दूर से ड्राइव करना चाहते थे, लेकिन गेंद उनके बल्ले का बाहरी किनारा लेते हुए सीधे तीसरी स्लिप में खड़े श्रेयस अय्यर के हाथों में चली गई।

बल्ले से भी मचाया धमाल

लीस और पोप का विकेट के बीच उन्होंने जैक क्राउली (9) को भी तीसरी स्लिप में शुभमन गिल के हाथों कैच आउट कराया था। ये कहना बिल्कुल गलत नहीं होगा कि एजबेस्टन टेस्ट का दूसरा दिन जसप्रीत बुमराह के नाम रहा है। गेंद से जलवा बिखरने से पहले उन्होंने दसवें नंबर पर आकर केवल 16 गेंदों पर 31 रन की आतिशी पारी खेली थी।

बुमराह ने स्टुअर्ट ब्रॉड के एक ओवर में 29 रन बनाकर वर्ल्ड रिकॉर्ड भी बनाया। इससे पहले कभी भी टेस्ट क्रिकेट के एक ओवर में इतने रन नहीं बने थे।

About the author

suuny

Leave a Comment