पहले बना इंजीनियर और फिर क्रिकेटर, लॉकडाउन में MBA में दाखिले की परीक्षा भी की पास, अब KKR के लिए खिलता हुआ आएगा नजर!

बाएं हाथ के बल्लेबाज प्रथम सिंह इंजीनियरिंग की पढ़ाई करने के बाद भारत के शीर्ष बिजनेस स्कूल ‘आईएसबी’ में भी जगह बनाने में सफल रहे लेकिन क्रिकेट के प्रति जुनून ने उन्हें आखिर इंडियन प्रीमियर लीग तक पहुंचा ही दिया. दिल्ली का 29 साल का यह खिलाड़ी रेलवे के लिये सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में लगातार अच्छा प्रदर्शन करता रहा और उन्हें अब बंद हो चुकी आईपीएल फ्रेंचाइजी गुजरात लायंस ने भी चुन लिया था लेकिन वह मैदान पर नहीं उतर सके थे. पांच साल के लंबे इंतजार के बाद कोलकाता नाइट राइडर्स ने उन्हें पिछली मेगा नीलामी में चुना. अब वह आईपीएल 2022 में अपनी काबिलियत साबित करने को तैयार हैं.

प्रथम सिंह ने इलेक्ट्रॉनिक्स और कम्युनिकेशन में इंजीनियरिंग की है. फिर उन्हें आईएसबी हैदराबाद में दाखिला मिल गया था. लेकिन वे क्रिकेट से मन भरने के बाद एमबीए के बारे में सोचेंगे. उन्होंने बताया, ‘पहले लॉकडाउन के दौरान जब सब कुछ बंद था और करने को कुछ नहीं था. इसलिए मैंने तैयार की. मेरे दिमाग में कई बातें चल रही थीं. मैं 27 साल का था और क्रिकेट नहीं हो रहा था. मैं आईपीएल टीम में भी नहीं था. ऐसे में यह अच्छी बात रही. मैंने पढ़ाई करने का सोचा और आईएसबी हैदराबाद की परीक्षा पास कर ली. लेकिन फिर से क्रिकेट शुरू हो गया. मैं जितना हो सके क्रिकेट खेलना चाहता हूं क्योंकि यह मेरा जुनून है.’

KKR की तरफ से खेलेंगे प्रथम सिंह

आईपीएल में खेलने के बारे में सिंह ने कहा, ‘यह किसी भी घरेलू क्रिकेटर के लिये बहुत अच्छा मौका है और मैं रेलवे के लिये अच्छा करता रहा हूं. आईपीएल में एक पारी भी आपकी जिंदगी बदल सकती है. अगर आप अच्छा करते हो तो आपके पास देश के लिये खेलने का मौका भी है. मैं पिछले दो हफ्तों से टीम के साथ हूं और ब्रैंडन मैक्कलम और अभिषेक नायर सर से काफी कुछ सीख रहा हूं. मैं बतौर क्रिकेटर और सुधार करके प्रभाव डालने की कोशिश में हूं.’

रेलवे के लिए सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में मचाई धूम
प्रथम सिंह ने 2019-20 सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में 10 मैच में 438 रन बनाए थे. इस दौरान उनकी औसत 54.75 की रही जबकि स्ट्राइक रेट 136.02 की थी. इसके चलते रेलवे की टीम लीग स्टेज में सबसे ऊपर रही. फिर 2020-21 सीजन में उन्होंने एक शतक और दो अर्धशतकों की मदद से 229 रन बनाए. इस दौरान उनकी औसत 74.75 की थी.

प्रथम सिंह ने 2019 के सीजन में रेलवे की तरफ से सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी में खेलते हुए लगातार चार फिफ्टी जड़ी थीं. उन्होंने पीटीआई से कहा, ‘मैं अपने डेब्यू सीजन में दूसरा सबसे ज्यादा रन बनाने वाला बल्लेबाज था. हमने मुंबई को हराया और मैं पिछले तीन साल से सफेद गेंद के क्रिकेट में रेलवे की तरफ से टॉप स्कोरर हूं. इसलिए मुझे हर साल आईपीएल से बुलावे का इंतजार था. पिछले पांच साल से संघर्ष कर रहा था क्योंकि मुझे चुना नहीं जा रहा था. लेकिन देर आए दुरुस्त आए.’

प्रथम सिंह इस साल रणजी ट्रॉफी के पहले दो मैचों में कोरोना के चलते नहीं खेल पाए. लेकिन जब खेले तब रेलवे के लिए पहली पारी में 75 रन बनाए और टीम की जम्मू कश्मीर पर नौ विकेट से जीत में अहम रोल निभाया.

About the author

suuny

Leave a Comment