‘मैं दर्द में पड़ा हुआ था तब मेरी पत्नी और बच्चें ने मुझे सहारा दिया’ अश्विन ने बताया- तब मैदान में उतरते 12 विकेट चटकाए

भारतीय क्रिकेट टीम के ऑल राउंडर खिलाड़ी रविचंद्रन अश्विन (Ravichandran Ashwin) में सिडनी टेस्ट के बाद अपनी जोरदार वापसी की। इंडियन प्रीमियर लीग से पहले खेली गई श्रीलंका सीरीज पर भी अपनी छाप छोड़ी। लेकिन सभी खिलाड़ियों की तरह ही रविचंद्रन अश्विन के भारतीय क्रिकेट टीम से बाहर होने के बाद दिन काफी खराब दौरे से गुजरे।

जिसमें खिलाड़ी के परिवार का सपोर्ट मिला और उन्होंने सिडनी टेस्ट से अपनी शानदार वापसी की। इस ऐतिहासिक जीत पर एक वेब सीरीज भी बन रही है,जिसके ट्रेलर लांच पर रविचंद्रन अश्विन ने सीरीज के दौरान इंजुरी के बारे में बातचीत की। जिसे खुद उन्होंने अपने शब्दो में बताया है। जानिए क्या कहा रविचंद्रन अश्विन ने….

सिडनी टेस्ट की ऐतिहासिक जीत के बारे बताया अनुभव

रविचंद्रन अश्विन ने हनुमा विहारी के साथ मिलकर साझेदारी करके हारे हुए मैच को जीत में तब्दील किया है। रविचंद्रन अश्विन ने कहा कि हम दोनों जैसे ही मैदान के अंदर गए। हम दोनों काफी सहज हो गए थे। जिसके बाद हमनें एहसास किया कि हमें क्या समस्या है? हनुमा विहारी ज्यादा आगे नही बढ़ सके और बैकफुट पर जा रहे थे। वो मैदान में हैमस्ट्रिंग की चोट से जूझ रहे थे।

जिसके साथ ही जब मैं क्रीज पर गया तब मैं तेज गेंदबाजों के खिलाफ ज्यादा आगे नहीं जा पा रहा था। तब उस परिस्थिति में, मैंने खिलाड़ी से कहा कि हम स्ट्राइक रोटेट करेंगे और देखेंगे कि यह कैसे काम करेगा। मैच में कभी हनुमा विहारी तेज गेंदबाजों का सामना कर रहे थे और साथ में मैं स्पिनर का सामना कर रहा था। अश्विन ने कहा कि इसी तरह कुछ ओवर्स चले और उनके ( हनुमा विहारी) और मेरे बीच एक ठोस बातचीत हुई हम खेल में एक-दूसरे की मदद कर रहे थे।

बता दें, सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर खेले गए तीसरे टेस्ट मैच में रविचंद्रन अश्विन को चोट लगने के बाद अगले टेस्ट मैच गाबा टेस्ट से बाहर रहना पड़ा था। लेकिन चोटिल होने के बाद भी उन्होंने टीम के लिए बल्ले से एक शानदार पारी खेली थी। साथ ही तीन मैच की सीरीज में 12 विकेट के साथ सीरीज के दूसरे सबसे ज्यादा विकेट लेने वाले खिलाड़ी बने थे।

दर्द के कारण फर्श पर लुढ़क गया था

रविचंद्रन अश्विन ने इंजरी के दौरान दर्द के बारे में बातचीत की ओर बताया कि “मैं पैन किलर लेने के बाद मैदान पर गया था। जिसके बाद मैने 12 से 13 ओवर्स गेंदबाजी की, ये दर्द इतना भयानक था कि मैं फर्श पर लुढ़क गया था। मेरी पत्नी और बच्चों ने मुझे खड़ा किया जिसके बाद फिजियो मुझे चेक करने के लिए आए। मैं खेल में रेंगते हुए पहुंचा था लेकिन मैने अपना बेस्ट दिए”

About the author

suuny

Leave a Comment