‘फिल्म फ्लॉप हो गई तो रोना कैसा, हमारे साथ भी हुआ…’,अनुपम खेर बोले- बायकॉट शब्द को इतना बड़ा मत बनाइए…

बॉलीवुड के दिग्गज अभिनेता अनुपम खेर की हाल ही में रिलीज हुई फिल्म कार्तिकेय 2 बॉक्स ऑफिस पर सफल हो गई है। निखिल सिद्धार्थ-स्टारर फिल्म कार्तिकेय 2 13 अगस्त को रिलीज हुई थी। ये एक तेलुगु फिल्म है, और हिंदी में इस फिल्म ने अब तक 18 करोड़ का बिजनेस किया है। ये फिल्म न केवल एक स्लीपर हिट बन गई है, बल्कि कार्तिकेय 2 ने आमिर खान की लाल सिंह चड्ढा और अक्षय कुमार की रक्षा बंधन को भी पछाड़ दिया है। अनुपम खेर ने कार्तिकेय 2 में एक अंधे व्यक्ति की भूमिका निभाई है। अनुपम खेर ने अपने एक इंटरव्यू में द कश्मीर फाइल्स के बाद इस साल अपनी दूसरी हिट की सफलता के बारे में खुलकर बात की है और बायकॉट ट्रेंड पर भी अपनी राय रखी है।

‘बायकॉट ट्रेंड पर रोने से बचना चाहिए …’

अनुपम खेर ने अब तक अपने करियर में 500 से अधिक फिल्मों में अभिनय किया है। अनुपम खेर ने सोशल मीडिया पर बायकॉट ट्रेंड पर खुलकर बात की। बता दें कि कई लोगों का मानना ​​है कि बॉलीवुड फिल्मों के बॉक्स ऑफिस पर असफल होने के पीछे बायकॉट ट्रेंड ही है। इन मुद्दों पर अनुपम खेर ने कहा, ”दर्शकों को कुछ कंटेंट, फिल्म नहीं देखने के बारे में अपना मन बनाने का अधिकार है और फिल्म निर्माताओं और अभिनेताओं को फिल्मों के विषय पर अधिक ध्यान देना चाहिए और बायकॉट ट्रेंड पर रोने से बचना चाहिए और उसपर कम ध्यान देना चाहिए।”

‘कश्मीर फाइल्स भी ‘boycotted’ हुआ…’

अनुपम खेर ने कहा, ‘कश्मीर फाइल्स का भी बहिष्कार किया गया था। कई प्रसिद्ध आलोचकों ने कहा कि इसे नहीं देखा जाना चाहिए। द एक्सीडेंटल प्राइम मिनिस्टर के साथ भी ऐसा ही हुआ। हम इस पर रोए नहीं थे। फिल्म का कंटेंट बहुत महत्वपूर्ण है। निखिल (सिद्धार्थ) का पता नहीं है। हिंदी पट्टी में लेकिन मैंने कार्तिकेय 2 देखने के बाद सिनेमा हॉल में लोगों को सीटी बजाते देखा है।”

‘हम बायकॉट ट्रेंड जैसे नए शब्द बनाना पसंद करते हैं…’

अनुपम खेर ने आगे कहा, ”हम बायकॉट ट्रेंड जैसे नए शब्द गढ़ना पसंद करते हैं। एक फिल्म समीक्षक के पास लोगों को फिल्म देखने या न देखने के लिए कहने की शक्ति है। लेकिन ऐसा नहीं है इसका मतलब है कि दर्शक वास्तव में इसे नहीं देखेंगे। दर्शकों के पास किसी को भी बनाने या तोड़ने की शक्ति है।’

 

About the author

hinditech

Leave a Comment