IND vs ENG: हम 2 घोड़ों की रेस में तीसरे नंबर पर रहे, 10 विकेट की शर्मनाक हार के बाद बोले अंग्रेज कप्तान जोस बटलर

भारत के खिलाफ पहले वनडे मैच में 10 विकेट से मिली करारी हार के बाद जोस बटलर काफी निराश थे। उन्होंने मैच के बाद प्रेजेंटेशन सेरेमनी में स्वीकार किया कि 12 जुलाई 2022 का दिन उनकी टीम के लिए काफी कठिन दिन था। वह अपने टीम के प्रदर्शन से इतने निराश थे कि उन्होंने यह तक कह डाला, हम दो घोड़ों की दौड़ में तीसरे नंबर पर आए।

पहले वनडे इंटरनेशनल मैच में सीमित फॉर्मेट में इंग्लैंड के कप्तान और विकेटकीपर जोस बटलर टीम के हाइएस्ट स्कोरर रहे। उन्होंने 6 चौके की मदद से 32 गेंद में 30 रन बनाए। उनके अलावा डेविड विली (21 रन), ब्रायडान कार्स (15 रन) और मोईन अली (14 रन) ही दहाई का आंकड़ा छू पाए।

वहीं, भारत ने 110 रन के लक्ष्य को बिना विकेट खोए हासिल कर लिया। मैच के बाद जोस बटलर ने कहा, ‘यह एक बहुत ही कठिन दिन था। पिच पर जिस तरीके से गेंदबाजों को स्विंग मिल रही थी, वह बैटिंग को बहुत कठिन बना रही थी। साथ ही भारतीय गेंदबाजों ने भी कमाल की गेंदबाजी की। भारतीय गेंदबाजों ने हालात को बखूबी भुनाया। उन्होंने पावरप्ले में बहुत अच्छी गेंदबाजी की। खासतौर पर जसप्रीत बुमराह ने बहुत ही अच्छा प्रदर्शन किया।’

जोस बटलर ने कहा, ‘जसप्रीत बुमराह एक बेहतरीन गेंदबाज हैं। उन्होंने काफी बढ़िया गेंदबाजी की। जब आप इतने छोटे से लक्ष्य (111 रन) का बचाव करने उतरते हैं तो 10 विकेट झटकना आसान नहीं होता। मैंने अपने गेंदबाजों को विकेट के लिए जाने को कहा था लेकिन हम सफल नहीं हो पाए। हम दो घोड़ों की दौड़ में तीसरे स्थान पर रहे।’

वहीं, रोहित शर्मा ने कहा, ‘टॉस जीतना बहुत महत्वपूर्ण था। मौसम और पिच से गेंदबाजों को काफी मदद मिली। हमारे गेंदबाजों ने भी परिस्थितियों का बढ़िया लाभ उठाया। हमने बिल्कुल पिच के हिसाब से फील्ड सजाई थी। जब पिच ऐसी हो तो आपको कुछ प्लेयर कैचिंग के लिए लगाने पड़ते हैं।’

रोहित शर्मा ने कहा, ‘जब हमने पारी की शुरुआत की तो पहले गेंद पर थोड़ी सी गलती हो गई थी लेकिन उसके बाद हमने बढ़िया बल्लेबाजी की। शिखर धवन भी काफी दिनों के बाद खेल रहे हैं लेकिन उनके प्लेइंग इलेवन में शामिल होने म को मजबूती मिलती है।’

जसप्रीत बुमराह को प्लेयर ऑफ द मैच का अवार्ड दिया गया। जसप्रीत बुमराह ने पुरस्कार ग्रहण करने के बाद कहा, ‘पिच से काफी स्विंग मिल रहा था। उसका हमने फायदा उठाया। जब आप सफेद गेंद की क्रिकेट खेल रहे होते हो तो आप अपनी लेंथ को ऐसा रखने का प्रयास करते हो जिस पर ज्यादा रन ना मिले।’

उन्होंने कहा, ‘हालांकि, पिच पर स्विंग थी। ऐसे में मेरा काम था कि गेंद को सही लेंथ और लाइन पर रखना। शमी ने जैसे ही पहला ओवर फेंका, हमने आपस में बात की और हमने तय किया कि हम अपनी लेंथ को आगे रखेंगे। पंत ने भी कमाल के कैच पकड़े। उनको इस तरीके से कीपिंग और बल्लेबाजी करते देखकर अच्छा लग रहा है।’

About the author

suuny

Leave a Comment