इतिहास के दूसरे सबसे महंगे भारतीय क्रिकेटर बने थे ईशान किशन, जब क्रिकेट की वजह से स्कूल से निकला गया; जब छोटे भाई के लिए बड़े भाई ने छोड़ दिया क्रिकेट

IPL Auction 2022 के मेगा ऑडिशन में खिलाड़ियों पर पैसे की बारिश होती नजर आ रही है जैसे कि आप लोगों को मालूम ही होगा कि अपनी -अपनी टीम को मजबूत बनाने के लिए सभी फ्रेंचाइजी खिलाड़ियों पर अच्छा खासा पैसा की बारिश कर रहे हैं ताकि उन खिलाड़ियों को अपने टीम में शामिल कर सके और अपने टीम को मजबूती बना सके इसी बीच पहले दिन ईशान किशन को मुंबई इंडियंस ने 15.25 करोड़ रुपये में खरीदा। इस तरह से वह इस मेगा ऑक्शन के अभी तक के सबसे महंगे खिलाड़ी बन गए हैं। आईपीएल ऑक्शन 2022 में उन्होंने श्रेयस अय्यर को पीछे छोड़ दिया, जिन्हें कोलकाता नाइट राइडर्स ने 12.25 करोड़ रुपये में खरीदा था। इशान किशन इस तरह से आईपीएल ऑक्शन के इतिहास के दूसरे सबसे महंगे भारतीय खिलाड़ी बन गए हैं।

जनवरी 2018 में, उन्हें 2018 आईपीएल के लिए मुंबई इंडियंस ने खरीदा था। किशन 2020 के आईपीएल में मुंबई इंडियंस के लिए 14 मैचों में 516 रन के साथ सबसे अधिक रन बनाने वाले खिलाड़ी थे और उन्होंने सीजन में सबसे अधिक छक्के लगाने के लिए पुरस्कार भी जीता था।  8 अक्टूबर 2021 को ईशान किशन ने सनराइजर्स हैदराबाद के खिलाफ 32 गेंदों में 262.50 के स्ट्राइक रेट से 11 चौकों और 4 छक्कों की मदद से 84 रन बनाए थे।

क्रिकेट करियर

2016-17 रणजी ट्रॉफी में 6 नवंबर 2016 को ईशान किशन ने दिल्ली के खिलाफ 273 रन बनाए जो कि रणजी ट्रॉफी में झारखंड के लिए किसी खिलाड़ी द्वारा बनाया गया सर्वोच्च स्कोर था। ईशान 2017-18 रणजी ट्रॉफी में झारखंड के लिए छह मैचों में 484 रन के साथ अग्रणी रन-स्कोरर थे और 2018-19 में भी वह 9 मैचों में 405 रन के साथ अग्रणी रन-स्कोरर थे।

20 फरवरी 2021 को, 2020-21 के विजय हजारे ट्रॉफी के पहले दिन, किशन ने मध्य प्रदेश के खिलाफ 173 रन बनाए और किशन की शानदार पारी ने झारखंड को 422 रन बनाने में मदद की, जो कि विजय हजारे ट्रॉफी में किसी भी टीम द्वारा बनाया गया सर्वोच्च स्कोर है। इसके अलावा उन्होंने बतौर विकेटकीपर 7 कैच लपके, जो की लिस्ट ए मैच में किसी विकेटकीपर द्वारा लिए गए सबसे ज्यादा कैच हैं।

ईशान किशन की जीवनी।

ईशान का जन्म 18 जुलाई 1998 को पटना, बिहार में हुआ था। उनके पिता का नाम प्रणब कुमार पांडे है जो कि एक बिल्डर थे, उनकी माता का नाम सुचित्रा सिंह है। हालांकि ईशान बिहार से थे लेकिन पंजीकरण के मुद्दे पर बीसीसीआई और बिहार क्रिकेट एसोसिएशन के बीच मतभेदों के कारण, ईशान को झारखंड से खेलना पड़ा।

ईशान किशन को बचपन से ही क्रिकेट में काफी दिलचस्पी थी दरअसल इस समय इनका पढ़ाई में बिलकुल भी ध्यान नहीं था, जबकि क्रिकेट के प्रति काफी ज्यादा लगाव था, जिसे से ये पढ़ाई में पीछे होते जा रहे थे. इस वजह से एक बार U19 वर्ल्डकप टीम के कप्तान रहे ईशान किशन को स्कूल से बहार भी निकाल दिया गया था. हालाँकि बाद में इन्होने पानी स्कूली शिक्षा भी पूरी की.

…………. cominng soon

About the author

suuny

Leave a Comment