‘विराट की वीडियोज देखकर की तैयारी’, कोहली का जबरा फैन रहा है गुजरात टाइटंस का ये युवा बल्लेबाज

बल्लेबाजी में पिछले कुछ समय से लगातार खराब फॉर्म से जूझ रहे विराट कोहली अभी भी कई खिलाड़ियों के लिये एक लेजेंड से कम नहीं है। विराट कोहली को युवा पीढ़ी के खिलाड़ी कितना ज्यादा पसंद करते हैं यह बात रॉयल चैलेंजर्स बैंगलोर के हर मैच में देखने को मिलती है। मैच के बाद कोहली अक्सर युवा खिलाड़ियों के साथ बातचीत करते नजर आते हैं और विपक्षी टीम के खिलाड़ी आरसीबी के पूर्व कप्तान के साथ अपने सोशल मीडिया अकाउंट पर तस्वीर शेयर करते नजर आते हैं।

इन तस्वीरों में साफ नजर आता है कि ये युवा खिलाड़ी कोहली की ऊर्जा से कितना ज्यादा प्रभावित नजर आ रहे हैं। कोहली से प्रभावित होने वाले इन युवा खिलाड़ियों में एक नाम गुजरात टाइटंस के युवा बल्लेबाज बी साई सुदर्शन का भी है जिन्होंने इस सीजन खेले गये 5 मैचों में 145 रन बनाने का कारनामा किया है।

साई सुदर्शन की सर्वश्रेष्ठ पारी पंजाब किंग्स के खिलाफ आई थी जिसमें उन्होंने नाबाद 65 रनों की पारी खेली थी। कई युवा खिलाड़ियों की तरह ही साई सुदर्शन भी इस सीजन कहर बरपा रहे हैं। सुदर्शन ने अपनी तैयारी के दौरान अपनी फिटनेस पर खासा ध्यान दिया है और इसके लिये उनके आदर्श कोई और नहीं बल्कि खुद विराट कोहली है।

इस बात का खुलासा साई सुदर्शन की स्ट्रेंथ एंड कंडीशनिंग कोच और उनकी मां उषा ने किया है। ईएसपीएन क्रिकइंफो के साथ बात करते हुए उन्होंने कहा,’कई सारे युवा बच्चों की यही मानसिकता होती है कि मेरी बारी आ जाये और मैं बल्लेबाजी कर सकूं। साई भी शुरुआत के दिनों में ऐसा ही था लेकिन फिर उसने खुद को बदला। उसने विराट कोहली की ढेर सारी वीडियोज देखी और उन्हें फॉलो भी किया।’

साई सुदर्शन की मां ने बताया कि कोहली ने अपनी वीडियो में कहा था कि उनकी फिटनेस ने काफी आत्म-विश्वास दिया है, जिसके चलते साई ने ज्यादा अच्छे से मेरे साथ ट्रेनिंग शुरू कर दी। महामारी के दौरान भी उसने अपनी फिटनेस पर काफी काम किया और पिछले दो सालो में उसने मेरे कान खा लिये कि हमें इस तरह से ट्रेनिंग क्यों करनी पड़ी रही है, या फिर उस तरह से क्यों नहीं। इससे क्या फायदा होगा और बहुत कुछ।’

गौरतलब है कि सुदर्शन ने तमिलनाडु प्रीमियर लीग 2021 के दौरान पहली बार सुर्खियां बटोरी थी, जहां पर वो दूसरे सबसे ज्यादा रन बनाने वाले बल्लेबाज बने थे और 358 रन बनाये थे। उनके प्रयास ने उन्हें तमिलनाडु की टीम में जगह बनाने में अहम भूमिका निभाई और वो विजय हजारे ट्रॉफी, सैयद मुश्ताक अली ट्रॉफी और रणजी ट्रॉफी की टीम में चुने गये। इस सीजन जब विजय शंकर पीठ के दर्द के चलते टूर्नामेंट से बाहर हो गये तो उन्होंने पंजाब किंग्स के खिलाफ अपना डेब्यू किया और बेहतरीन 35 रनों की पारी खेली।

About the author

suuny

Leave a Comment