‘जो कीड़ा सचिन में था, वो आज कल के इन क्रिकेटरों में बिल्कुल नहीं’, जानिये पूर्व कोच रवि शास्त्री ने क्यों कहा ऐसा

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व मुख्य कोच रवि शास्त्री (Ravi Shastri) अपनी बात को बेबाकी से रखने वाले दिग्गजों में जाने जाते है। हाल बहरहाल रवि शास्त्री (Ravi Shastri) टीम इंडिया के खिलाड़ियों के विषय में विवेचना करते रहते है। अब  शास्त्री का कहना है कि पूर्व खिलाड़ी सचिन तेंदुलकर के अंदर को कीड़ा था वो आज के खिलाड़ियों के अंदर नहीं है। जानिए क्यों कहा  शास्त्री ने ऐसा…

सचिन तेंदुलकर के अंदर गेंदबाजी का कीड़ा था : रवि शास्त्री

भारतीय क्रिकेट टीम के पूर्व खिलाड़ी और कप्तान रवि शास्त्री ने वर्तमान खिलाड़ियों को क्रिकेट के भगवान माने जाने वाले सचिन तेंदुलकर  से तुलना करने के बाद कहा कि, “सचिन तेंदुलकर में गेंदबाजी करने का कीड़ा था। वह अपनी बैटिंग खत्म होने के बाद बॉल उठा लेते थे और अलग-अलग वैरिएशन ट्राई करते थे। अजय जडेजा भी बॉलिंग करना पसंद करते थे। आपको ऐसे खिलाड़ियों को पहचानना होगा। वो (सेलेक्टर्स) मुझसे कहने की कोशिश करते हैं कि कीड़ा नहीं है किसी भी बैट्समैन के पास, बॉलिंग करने का? कमाल है”।

देश में ऐसे बल्लेबाज़ होंगे जो गेंदबाज़ी करना पसंद करते हैं : रवि शास्त्री

शास्त्री ने बल्लेबाजों के द्वारा गेंदबाजी के विषय में बात करते हुए कहा कि, “मुझे टीम में ऐसा बल्लेबाज चाहिए था जो 4-5 ओवर गेंदबाज़ी भी कर सके। मैंने सेलेक्टर्स को ऐसे किसी खिलाड़ी को ढूंढने के लिए कहा। मुझे विश्वास है कि हमारे देश में ऐसे बल्लेबाज़ होंगे जो गेंदबाज़ी करना पसंद करते हैं, जिनमें बॉलिंग करना का कीड़ा हो। जैसे सचिन तेंदुलकर को कीड़ा था”।

दीपक हुड्डा और अक्षर पटेल कर सकते है ऐसा

दीपक हुड्डा की एक पारी के सामने बौना साबित हुए ये 3 युवा खिलाड़ी, टी20 वर्ल्ड कप से पत्ता कटना हुआ तय

भारतीय क्रिकेट टीम की हाल ही खेली गई पिछली सीरीज में दीपक हुड्डा और अक्षर पटेल ने अच्छा प्रदर्शन करके दिखाया है। जिसके बाद रवि शास्त्री का मानना है कि ये दोनों ऑल राउंडर खिलाड़ी गेंदबाज और बल्लेबाज दोनो काम कर सकते है। हालांकि रवि शास्त्री का कहना है कि सहवाग, युवराज, सचिन, और रैना जैसे खिलाड़ी टीम के मुश्किल समय में 4 से 5 ओवर गेंदबाजी कर टीम को विकेट दिला देते थे। जिससे टीम के लिए जीत का काम आसान हो जाता था। लेकिन अब टीम में ऐसे खिलाड़ी काम है जोकि ऐसा कर सके।

About the author

suuny

Leave a Comment