जमकर टूटा इस बल्लेबाज का कहर, 76 रन तो 17 गेंदों पर ठोक दिए,जमाया शतक, टीम को दिलाई सबसे बड़ी जीत

इंग्लैंड में खेले जा रहे टूर्नामेंट टी20 ब्लास्ट (T20 Blast) में शुक्रवार को ऐसा कुछ हो गया जो इससे पहले इस टूर्नामेंट में पहले कभी भी नहीं हुआ था. इस टूर्नामेंट के इतिहास में ये काम पहले कोई टीम नहीं कर पाई थी लेकिन एजबेस्टन में खेले गए मैच में बर्मिंघम की टीम ने ये काम कर दिया. बर्मिंघम में इस टूर्नामेंट की अब तक की सबसे बड़ी जीत हासिल की है. उसने ये जीत वॉर्सेस्टशर के खिलाफ हासिल की है और उसकी इस विशाल जीत का नायक रहा है एक बल्लेबाज जिसके बल्ले ने ऐसा तूफान मचाया कि गेंदबाज देखते रह गए. इस बल्लेबाज का नाम है एडम होसे (Adam Hose). एडम ने इस मैच में शतक जमाया और अपनी टीम को विशाल स्कोर दिलाया. उनके शतक के बूते बर्मिंघम ने पहले बल्लेबाजी करते हुए आठ विकेट के नुकसान पर 228 रन बनाए थे. इसके जवाब में वॉर्सेस्टशर की टीम 84 रनों पर ही ढेर हो गई और बर्मिंघम को 144 रनों से जीत मिली.

एडम होसे ने ऐसा तूफान मचाया कि गेंदबाज सिर्फ देखते रह गए. उनकी ये पारी तब आई जब टीम मुश्किल स्थिति में थी और अपने दो विकेट पहले ही ओवर में खो चुकी थी. मिचेल स्टानले ने पहले ही ओवर में बर्मिंघम के दो विकेट गिरा दिए थे. उन्होंने एलेक्स डेविस और सैम हेन के विकेट लिए. दोनों बल्लेबाज खाता तक नहीं खोल पाए थे. लेकिन फिर मैदान पर उतरे एडम ने अपना खेल दिखाया और तूफानी बल्लेबाजी करते हुए टीम को बड़ा स्कोर दिया.

207.54 की स्ट्राइक रेट से मचाया धमाल

दो विकेट गिर जाने के बाद भी एडम ने अपना तूफानी अंदाज दिखाया और विपक्षी टीम के गेंदबाजों की नाक में दम कर दिया. चौथे ओवर में जब टीम का स्कोर 51 पर पहुंचा था तो टीम को एक और झटका लग गया था. रॉब येट्स 20 रन बनाकर आउट हो गए थे. इसके बाद होसे को साथ मिला डेन माउसले का. एडम ने जहां शतक जमाया तो डैन अर्धशतक जमाने में सफल रहे. इन दोनों ने चौथे विकेट के लिए 91 रनों की साझेदारी की. डैन ने 34 गेंदों का सामना करते हुए तीन चौके और तीन छक्कों की मदद से 53 रन बनाए. उनके जाने के बाद हालांकि एडम का साथ कोई और बल्लेबाज नहीं दे सका. एडम 53 गेंदों पर 13 चौके और चार छक्के मार 110 रन बनाकर नाबाद रहे. उनकी इस पारी के दम पर बर्मिंघम ने बड़ा स्कोर खड़ा किया.

दबाव में बिखर गई वार्विकशर
वॉर्सेस्टशर को जीत के लिए 229 रनों की जरूरत थी लेकिन ये टीम इस विशाल लक्ष्य के सामने बिखर गई और इस तरह से बिखरी की शतक तक नहीं बना पाई. उसके लिए सबसे ज्यादा रन कोलिन मुनरो ने बनाए. मुनरो ने 28 गेंदों का सामना करते हुए 34 रनों की पारी खेली. उनके अलावा कासिफ अली ने 17 रन बनाए. इन दोनों के अलावा कोई और बल्लेबाज दहाई के अंक में नहीं पहुंच सका. बर्मिंघम के लिए डैनी ब्रिग्स ने चार विकेट हासिल किए. जैक लिनटोट और ऑली स्टोन ने दो-दो सफलताएं अर्जित कीं.

 

About the author

suuny

Leave a Comment